पहली बार गांड मरवाई शालिनी ने

ये कहानी मेरे कुछ दिन पहले के सेक्स एनकाउंटर की हैं जो मेरी मेनेजर के साथ हुआ था. मैंने 15 दिन पहले ही ये कम्पनी ज्वाइन की थी. हम 10 लोगों की टीम हैं और टीम में 8 लेडिज और सिर्फ दो ही मर्द हैं. मेरी मेनेजर एक सिन्धी औरत हैं. उसकी शादी हो चुकी हे और दो बच्चे भी हैं. वो करीब 35 साल की हैं और काफी यंग लगती हैं/

उसकी हाईट करीब सवा पांच फिट की हैं. और वो हमारी टीम में सब से सेक्सी लेडी हैं. मैं पहले दिन से ही उसको चोदना चाहता था. उसका फिगर करीब 34-28-36 का हैं. उसके इस सेक्सी फिगर के वजह से ही मैं उसे चोदने के लिए उत्सुक था.

मैंने अपने मिशन की स्टार्ट में पहले उसे अपनी तरफ अट्रेकट करना चालू कर दिया. मैं वैसे काफी हेंडसम हूँ और मेरी हाईट और बॉडी भी काफी अच्छी हैं. लेकिन एक मेरिड औरत को पटाने के लिए उतना काफी नहीं था. मैंने उसके इर्द गिर्द घुमने लगा. उसे काम के बारे में सवाल पूछता था. और हमेशा उसके करीब रहने की कोशिश करता था.

शालिनी की केबिन काफी छोटी हैं. और मैं जब कुछ पूछने के लिए जाता तो वही पर बैठ जाता था. वो काफी फ्रेंक और ओपन माइंडेड हैं और मजाकिया नेचर भी हैं उसका. जब मैं उसे कुछ पूछता तो वो मेरे पास ही खड़ी हो जाती थी. मैं भी उसके साथ काफी मस्ती मजाक और जोक किया करता था. और फिर हम दोनों के बिच में करीबीपन बढ़ता गया.

और फिर एक दिन उसने बताया की उसका हसबंड बिजनेश ट्रिप के लिए बहार गया हैं. और वो अपने दोनों बच्चो को देख रही थी. वो बच्चो की दादी जी के साथ साथ घर पर रहती थी. और फिर शालिनी का बर्थ डे आया. ऑफिस में सब ने उसके लिए सरप्राइज पार्टी अरेंज की. और वो सब अरेंजमेंट्स को देख के खुश हो गई. और उसने हम सब को ट्रीट देने के लिए बुलाया.

हम सभी एक मल्टीक्यूजिन रेस्टोरेंट में गए. वो टेक्सी में आई थी क्यूंकि आज उसका ड्राइविंग का मूड नहीं था. हम सब ने मस्त खाना खाया. और सब ने ग्रुप सेल्फी भी ली. फिर मैंने अपने मोबाइल में उसका सोलो पिक लिया. और फिर मेरे मोबाइल को ले के वो गेलरी के पिक्स देखने लगी. और तभी एक सेक्सी लड़की की पिक आ गई जो नेकेड थी. वो थोड़ी चौंकी लेकिन थोडा पॉज कर के वो आगे के पिक्स भी देखने लगी. आगे के सब पिक्स ऐसे ही थे. और आगे तो उस से भी गंदे सेक्स वाले पिक्स थे. उसने मुझे फोन वापस दिया और ऐसे एक्ट की जैसे उसने कुछ देखा ही न हो. हमारी पार्टी अब खत्म हो चुकी थी.

और फिर सब जाने के लिए रेडी थे. रात के करीब 10 के ऊपर कुछ समय हुआ था. बहार हलकी सी ठंडी थी जो बारिश के वजह से थी. कुछ देर मैं सिर्फ मैं और शालिनी बचे थे और बाकी सब जा चुके थे. वो अपनी टेक्सी के लिए वेट कर रही थी. मैंने कहा कहो तो मैं अपनी बाइक के ऊपर छोड़ देता हूँ. वो बोली बाइक पर ठन्डी लगेगी. मैंने कहा मैं स्लो चलाऊंगा.

loading…

वो मान गई और मेरे बाइक पर बैठ गई. मैं बाइक को बड़ा स्लो चला रहा था तो शालिनी ने कहा इतनी भी ठंडी नहीं लग रही हैं, थोडा तेज कर सकते हो. फिर हमारे बिच में कैसुअल बातें होने लगी. मैंने उसे उसके पति, बच्चे घर वगेरह के बारे में पीछा. वो नोर्मल ही बातें कर रही थी. और तभी उसने मुझे मेरे फोन के पिक्स के बारे में पूछ लिया. मैंने कहा अभी मैं कुंवारा हु और मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं हैं इसलिए टाइम पास के लिए रखा हुआ हैं. उसने कहा, टाइम पास कैसा टाइम पास?

मैंने उसका जवाब नहीं दिया और उसे पूछा की तुम हनीमून के लिए कहा गई थी. शालिनी ने बताया की न्यूजिलेंड गई थी. मेरे अन्दर और भी हिम्मत आ रही थी और कुछ पूछने की. मैंने कहा, क्या तुम अपने हसबंड से खुश हो? उसने कहा, हां. मैंने फिर से पूछा, तुम्हारे हसबंड कब वापस आने वाले हैं. उसने कहा दो महीने के बाद. मैंने एकदम चौंक के कहा, 2 महीने!!!!

और फिर मैंने एकदम से कन्फेस कर लिया और उसे कहा, शालिनी मैं तुम्हे बहुत लाइक करता हूँ, तुम सच में बड़ी खुबसुरत हो! उसने मेरे करीब आ के जैसे मेरे से अपने बदन को चिपका लिया. फिर उसने अपने फोन से अपनी सास को कॉल किया की मैं आज लेट हो जाउंगी घर आने में क्यूंकि मैं अपने दोस्तों के साथ हूँ.

फिर उसने मुझे कहा तो तुम मुझे कहा ले के जा रहे हो. मैंने बाइक को रोका और हम दोनों निचे उतरे. उसने मुझे अँधेरे का फायदा उठा के किस दे दिया और वो मेरे लिप्स को काटने लगी. मैंने उसके बूब्स मसले तो वो बोली, बस बस यहाँ सब कुछ करना हैं क्या? मैं बाइक ले के उसे एक होटल पर ले गया. वहां हमने एक रूम बुक किया और अन्दर चले गए.

दरवाजे को बंद करते ही वो मेरे ऊपर लिपट गई और मेरे कान के लोबस को किस करने लगे. मैं एकदम से होर्नी हो चूका था. और मुझे कान के लोबस के ऊपर कोई टच या किस करे तो बहुत उत्तेजना होती हैं. मैंने अपने हाथ उसकी गांड पर रख दिए और उसे जोर से दबा दिया ड्रेस के ऊपर से ही. और मेरे अन्दर अब घोड़े के जैसी शक्ति आ चुकी थी.

मैंने शालिनी के ड्रेस को उतार दिया और उसके निपल्स को चूसने लगा. और मेरे हाथ उसकी चूत के ऊपर थे जिसे मैं मसल रहा था. और दुसरे हाथ से मैं उसकी गांड को दबा रहा था. उसकी चूत में और भी पानी आ चूका था और वो एकदम चुदासी आवाजे भी निकाल रही थी. अब मैं बैठ गया और उसके एक लेग को अपने शोल्डर के ऊपर रख दिया और उसकी शेव की हुई चूत को चाटने लगा. वो एकदम गरम और सेक्सी थी. मैं तो जैसे पागल हो रहा था. मैं उसकी चूत को चाटते हुए उसकी गांड में ऊँगली कर रहा था और उसके बूब्स को भी मसल रहा था. वो अपनी चूत को मेरे मुहं के ऊपर जोर जोर से घिस रही थी. और मेरे माथे को उसने एकदम फ़ोर्स से दबा दिया था. उसकी चूत की खुसबू मेरी नाक में घुस के मुझे और भी पागल करती जा रही थी.

अब मैंने उसे उल्टा कर दिया और थोडा आगे की तरफ झुका दिया. और फिर मैं शालिनी की गांड चाटने लगा. उसकी गांड तो चूत से भी ज्यादा सेक्सी और हॉट थी. मुझे अच्छा लगा. मैंने अपनी जबान को उसकी गांड के छेद में घुसा दिया और जोर जोर से चाटने लगा. और फिर मैंने अपनी 3 उंगलिया उसकी गीली चूत में डाल दी.

शालिनी चीखने लगी, फक मी, आज मुझे अपनी बना लो, जो करना हैं कर लो मेरे साथ. मुझे अपनी रंडी बनाओ, मुझे अपनी कुतिया बनाओ, चोद डालो मेरी चूत को मेरे राजा!

और उसके आवाज में बड़ी एनर्जी थी, और उतनी ही एनर्जी से मैं उसकी गांड और चूत को चाटने लगा था. फिर मैं निचे लेट गया और उसे मेरे ऊपर ले के लंड चूसने के लिए दे दिया.

अभी हम दोनों 69 पोजीशन में थे. वो मेरे ऊपर बैठ के मेरे लंड को चूस रही थी और मैं उसकी चूत के साथ गांड क जबान से चाट रहा था. हम दोनों एक दुसरे को जैसे खा रहे थे और एक दुसरे के ज्यूस को पी रहे थे. 30 मिनिट तक हम दोनों ने ऐसे एक दुसरे को खुश किया. और फिर मेरे लंड का सब पानी उसकी चूत में निकल पड़ा. वो सच में बड़ी रंडी निकली और मेरा सब वीर्य पी गई. और फिर से वो मेरे ऊपर चूत को दबाने लगी. और फिर उसकी चूत का पानी भी निकल गया जिसे मैंने चाट के साफ कर लिया. उसकी चूत और गांड दोनों को मैंने चाट के साफ़ कर दिया था.

अब मैंने उसे कहा चलो मेरे लंड की सवारी करो. वो मेरे ऊपर चढ़ के लंड को चूत में सेट करने लगी. फिर अपनी गांड को हिला हिला के उसके ऊपर जम्प करने लगी. बाप रे क्या चुदवा रही थी मेरी सेक्सी शालिनी! क्या मज़ा आ रहा था, क्या मस्त ले रही थी वो मेरे लंड को. और लंड लेते हुए नोटी स्माइल भी दे रही थी मुझे. अभी वो मुझे चोद रही थी, मैं उसे नहीं!

कुछ देर वो उछल उछल के लंड लेती रही. फिर मैंने कहा शालिनी अब अपनी गांड में भी मेरा लंड ले लो. उसने मेरे चहरे के ऊपर नोटी मुहं बना के मारा. और फिर उसने अपनी चूत से लंड को निकाल लिउया. और धीरे से उसने उसे अपनी गांड के अन्दर सेट कर दिया. उसकी गांड बड़ी ही टाईट थी. उसके चहरे के ऊपर दर्द झलक रहा था लेकिन फिर भी वो स्माइल दे रही थी. वो धीरे धीरे कर के लंड को अंदर ले के हिलने लगी. और ऐसे करते हुए उसने अपनी चूत का फिंगर भी चालू कर दिया.

मैं उसकी गांड को जोर जोर से मारने लगा. और वो उतनी ही जोर से उछल रही थी. सच में इस सेक्स का अपना अलग ही मज़ा था. वो जोर जोर से चीख रही थी, अह्ह्ह क्या मज़ा आ रहा हे तेरा लंड गांड में ले के, आज पहली बार मैंने गांड मरवाई हैं!

फिर शालिनी ने कहा तुम मेरे हसबंड से अच्छा चोदते हो. वो सिर्फ चूत में और मुहं में देता हैं. लेकिन तुमने तो मुझे सब छेद में चोदा, सच में बड़े मस्त चुदाई करते हो. जब तक मेरे हसबंड नहीं आते हैं तब तक तुम ही मुझे चोदना.

अब मैं उसकी गांड मारते हुए उसकी चूत को फिंगर कर रहा था. और फिर मैं उसकी गांड में ही झड़ गया और वो भी मेरे ऊपर ही झड़ गई. सच में एक फैंटास्टिक अनुभव था मेरे लिए. और फिर मैंने बिना लंड निकाले उसे लिटा दिया.

मेरी भी नींद लग गई जो पता ही नहीं चला. सुबह उठी तो भी मेरा लंड उसकी गांड में ही था. उसने मुहे उठाया और कहा की अपना लंड निकालो मेरी गांड बहुत दुःख रही हैं. मैंने कहा तुमने आज पहली बार गांड मरवाई हैं इसलिए. उसने पूछा, कब तक मेरी गांड ऐसे दुखेगी? और दर्द कम कैसे होगा?

मैंने कहा एक बार फिर से मरवा लो तो कम होता जाएगा.

वो एकदम से सरप्राइज हो के बोली, एक बार और?

मैंने कहा हां!

और ये कह के मैंने उसे आँख मारी.

वो घुटनों के ऊपर बैठी और उसने मेरे लंड को पहले साफ़ किया. और फिर मुहं में भर के चूसने लगे. फिर मैंने उसे घोड़ी बनाया और उसने पाद मारी. मैंने गांड पर एक लात मारी और कहा, हगना हैं तो हग के आओ. वो बोली नहीं मार लो पहले, फिर नाहा के चली ही जाउंगी घर.

मैंने उसकी गांड को खोला और लंड को उसकी गांड में घुसेड दिया. और मैं उसे जोर जोर से पेलने लगा. वो भी जोर जोर से गांड हिला के बता रही थी की बहुत मज़ा आ रहा हैं. मैंने कहा अब दर्द तो नहीं हैं? वो बोली नहीं अब दर्द कम हो रहा हैं.

मैंने पौने घंटे तक उसकी गांड मारी. और गांड मारते मारते मैंने उसके पुरे बदन के ऊपर किस किये थे और उसे चांटे भी लगाए थे. एक बार फिर से मैंने उसकी गांड में अपना पानी छोड़ा. और मेरा वीर्य निकल के उसकी चूत तक बह निकला. मैंने वीर्य से भीगा हुआ लंड गांड से निकाल के चूत में डाला. शालिनी ने कहा, तुम सच कह रहे थे, एक बार फिर मरवाई तो गांड का दर्द कम हो गया.

मैंने कहा, गुड.

वो मेरे से लिपट गई और बोली, चलो मैं नाहा के निकलती हूँ. ऑफिस में मिलते हैं.

मैंने कहा, केबिन में चुदवाओगी अपने?

वो बोली, मौका मिला तो, लेकिन वहां सिर्फ मुहं में ले सकती हूँ, आगे पीछे नहीं!!!