मानसी को प्यार से चोदा – Mansi ko pyar se choda

प्रेषक : यश

हैलो दोस्तों मेरा नाम यश और में दिल्ली का रहने वाला हूँ। ये कहानी मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड मानसी की है, वो दिखने मे बहुत सुंदर है। इस कहानी को आज में आप सभी से शेयर कर रहा हूँ। दोस्तों आज से तीन साल पहले जब मैंने पहली बार मानसी को देखा तो मैंने कभी नहीं सोचा था कि वो कभी मेरी भी होगी, लेकिन किस्मत मे क्या हो किसी को पता नहीं। वो दिखने मे बहुत ही सेक्सी और उसके बूब्स का साईज 36-28-34 होगा। उसके बूब्स और गांड बहुत ही बड़े और गोल थे जिन्हें देखकर में हमेशा आहें भरता रहता था।

में आपनी क्लास मे सबसे अच्छा लड़का था क्योंकि मैंने कभी भी क्लास मिस नहीं की थी। एक बार मुझे अपनी माँ के बीमार होने पर एक वीक तक क्लास को छोड़ना पड़ा। तभी मेरे उसी समय एग्जाम भी थे। अब मुझे कुछ नोट्स की जरूरत पड़ी। तभी मुझे मेरे सर ने बोला कि तुम अपनी क्लास मे किसी से भी ले लो और तुम्हें किसी से नोट्स कॉपी करना होगा। फिर मैंने क्लास मे सभी से नोट्स माँगा लेकिन मुझे किसी ने भी नहीं दिये।

फिर लास्ट मे जब मैंने अपनी क्लास फ्रेंड मानसी से नोट्स माँगा तो उसने स्माईल करके अपने नोट्स मुझे दे दिये। फिर में उसके नोट्स लेकर घर आया और घर पर ही मैंने उसके नोट्स को कॉपी करना स्टार्ट कर दिया। जब में लास्ट पेज पर था तो मैंने सोचा कि में पहले चेक करता हूँ कि लास्ट का पेज पर इसने क्या लिखा हुआ है।

तभी मैंने देखा कि उसमे उसने अपना मोबाईल नंबर लिखा था। मैंने उसका मोबाईल नंबर नोट किया और फिर मैंने उसको जल्दी से अपने मोबाईल से उसको थेंक्स लिखकर भेज दिया। फिर करीब बीस मिनट बाद उसका रिप्लाई आया। तुम कौन हो? और इस थेंक्स का क्या मतलब है। फिर मैंने उसे रिप्लाई किया कि में तुम्हारा क्लास फ्रेंड यश नोट्स देने के लिए थेंक्स।

फिर उसका रिप्लाई आया इट्स ओक डियर तुझे थेंक्स कहने की जरूरत नहीं है। फिर अगले दिन वो मेरा क्लास मे मिलने का इंतजार कर रही थी। फिर जब में क्लास मे पहुंचा तो उसने मुझे एक प्यारी सी स्माइल दी और फिर वो मेरे साथ आकर बैठ गई।

तभी उसने मुझसे बात करना चालू कर दिया। उस दिन मेरा और उसका क्लास की पढ़ाई मे कोई ध्यान नहीं था। बाद में उसने मुझसे पूछा कि तुम्हारी कितनी गर्लफ्रेंड है तभी मैंने कहा कि सॉरी मेरे एक भी गर्लफ्रेंड नहीं है और फिर उसने मुझे एक स्माईल दी और फिर मुझसे कहने लगी कि तुम क्यों नहीं बताना चाहते? तभी मैंने कहा कि मैंने अभी कहा ना कि मेरी कोई भी गर्लफ्रेंड नहीं है।

मानसी : अच्छा तो तुम झूट भी बोलना जानते हो।

में : नहीं यार मुझ पर विश्वास करो मेरे कोई गर्लफ्रेंड नहीं, तभी क्लास खत्म हो गई में घर पर आने लगा।

फिर से रात को उसका दोबारा फोन आया। फिर उसने मुझसे पूछा कि तुम क्या कर रहे हो, तभी मैंने कहा कि यार कुछ नहीं बस फ़ेसबुक चेट, फिर उसने कहा कि क्या हम कल कहीं मिल सकते है? तभी मैंने कहा कि क्यों नही, लेकिन किस लिए तभी उसने बताया कि क्लास मे हमने जो बात की थी वो अभी पूरी नहीं हुई। तभी उसने फिर से पूछा कि तुम ये बात पूरे यकीन से कह रहे हो ना कि तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है। मैंने कहा कि हाँ में सच बोल रहा हूं और उसने मुझसे पूछा क्या तुम मुझे कहीं पसंद तो नहीं करने लगे? तभी मैंने उसको बोला कि हाँ मानसी आई लव यू, क्या तुम मेरी गर्लफ्रेंड बनना पसंद करोगी?

तभी उसने भी जल्दी से हाँ बोल दिया और फिर मेरा टाईम ऐसे ही कट रहा था। हमने अभी तक बस एक दुसरे को सिर्फ किस ही किया था। कुछ दिनो के बाद मेरे घर वाले किसी काम से दिल्ली से बाहर चल गये और में घर पर बिलकुल अकेला था। तभी एक दिन उनके जाने के बाद मैंने मानसी को कॉल किया और बोला कि क्या मानसी तुम मेरे घर पर आ सकती हो फिर उसने बोला कि ठीक है। में कुछ देर बाद आती हूँ और फिर वो अपने घर का काम खत्म करके करीब दस बजे मेरे घर पर आ गई। फिर उसने पूछा तुमने घर के सभी लोगो को कहाँ भेज दिया?

फिर मैंने कहा कि वो किसी काम से कुछ दिनों के लिये बाहर गये हुए है। फिर मैंने उसको किचन से पीने को पानी लाकर दिया और फिर मैंने उसको बोला कि चलो हम बेडरूम मे चलते है। तभी वो बोली ठीक है और हम दोनों बेडरूम मे आ गये तभी मैंने रूम को अंदर से लॉक किया और उसको किस करने लगा। उसने भी मेरा साथ देना शुरू कर दिया।

फिर हमने एक दूसरे को बहुत देर तक किस किया। अब में उसके टॉप के ऊपर से ही उसके बूब्स को जोर जोर से दबाने लगा करीब दस मिनट बाद जब मैंने जैसे ही उसके टॉप को उतारने लगा तभी उसने मुझसे पूछा कि तुम मुझे प्यार तो करते हो ना, तभी में ये बात सुनते ही उसको फिर से किस करने लगा। बाद मे उसने मुझ से कुछ नहीं बोला और वो अपना टॉप खुद ही ऊपर करने लगी फिर मैंने उसकी हेल्प की उसने रेड कलर की ब्रा पहनी हुई थी मैंने उससे पूछा कि तुम्हारा साईज़ क्या है? तभी वो बोली कि तुम खुद ही क्यो नहीं चेक कर लेते। फिर मैंने उसको हग किया और कहा कि 34 उसने कहा नहीं और वो बोली 36 है।

फिर मैंने उसकी ब्रा खोल दी और उसके बूब्स को देखने लगा। उसके बूब्स को देखकर कोई भी पागल हो जाये एकदम गौरे मिल्क कलर साथ में पिंक कलर की निप्पल। तभी मैंने अपना मुहं आगे बड़ाया और उसके बूब्स अपनी जीभ घुमाने लगा। अब उसे न जाने क्या हुआ वो जोर जोर से आहें भरने लगी। तभी कुछ देर बाद में बूब्स को मुहं मे लेकर चूसने लगा फिर करीब पांच मिनट चूसने के बाद उसने एक झटके से मेरा लंड पकड़ लिया और पेंट के ऊपर से ही दबाने लगी। तभी मैंने बोला कि प्लीज़ हेल्प करो मेरी में मर जाउंगा। फिर वो एकदम से नीचे बैठ गई और अब उसने मेरी पेंट की ज़िप खोली और मेरे लंड को पेंट से बाहर निकाला और बोली इसका साईज़ क्या होगा? दोस्तों ये कहानी आप AntarvasnaSex.Net पर पड़ रहे है।

मैंने बोला 6.5 फिर वो सिर्फ़ वाह कर के रह गई। तभी मैंने उसे बोला कि तुम इसे अपने मुहं में ले लो। तभी उसने जल्दी से लंड को मुहं मे लिया और फिर मैंने धीरे से एक धक्का दिया और पूरा लंड उसके मुंह मे चला गया लेकिन लंड के मुहं मे जाते ही उसकी आँखों से आंसू आने लगे और उसकी साँस रुकने लगी। फिर उसने लंड को थोड़ा बाहर किया तब उसे थोड़ा अच्छा महसूस हुआ। अब में रुक गया और वो अब धीरे धीरे लंड को आगे पीछे करके चूसने लगी। फिर पांच मिनट बाद में उसके मुहं मे ही झड़ गया।

फिर उसने वॉशरूम मे जाकर मुहं को धोया और थोड़ी देर बाद वापस आकर मुझे बोली कि तुम बहुत गंदे हो। क्या तुम बता नहीं सकते थे की तुम झड़ने वाले हो, तभी मैंने उसे सॉरी बोला और फिर उसको गोद मे उठाकर बेड पर ले गया। फिर मैंने उसकी जींस उतार दी और उसकी पेंटी भी। फिर में उसको किस करने लगा और उसके जोर जोर से बूब्स दबाने लगा। वो सिसकारियां ले रही थी अह्ह्ह्ह की आवाज निकाल रही थी। अब मेरे पूरे रूम मे बस अब उसकी ये आवाजे आ रही थी। तभी कुछ देर बाद जब में उसकी चूत को चाटने लगा तो वो पागल हो गई और ज़ोर ज़ोर से ऑहह उसस्स्स्स्शज की आवाजे करने लगी। उसकी चूत का वो सॉल्टी टेस्ट अब मुझे भी पागल कर रहा था। उसका भी ये पहली बार था। वो भी अब दस मिनट बाद ही झड़ गई। फिर में वो चूत का रस पी गया क्योंकि मैंने मेरे फ्रेंड को कहते हुए सुना था कि चूत रस को पिने का अलग ही मज़ा है।

तभी मेरे कुछ कहने से पहले ही वो फिर से मेरे लंड को मुहं मे लेकर चूसने लगी। अब उसने मुझे कुछ नहीं बोला और मेरा लंड निकाल कर अपनी चूत पर रखा। फिर उसने अपने मुहं पर अपना एक हाथ रखा और अपनी आंखे बंद कर ली, में भी ये सब फर्स्ट टाईम कर रहा था तो मैंने एक जोर का धक्का उसकी चूत मे दिया लेकिन अब मेरा लंड थोड़ा ही चूत के अंदर गया और फिर उसको में देखकर समझ गया कि उसको चूत मे कितना दर्द हो रहा होगा। तभी उसने कहा कि तुम घबराओ नहीं बस एक बार मे पूरा लंड चूत के अंदर डाल दो और फिर कुछ देर ऐसे ही रहने देना। फिर मैंने वैसा ही किया मैंने एक ही धक्के के साथ पूरा लंड चूत मे उतार दिया और उसको क़िस करने लगा और एक हाथ से उसके बूब्स को सहलाने लगा। फिर कुछ देर बाद उसने बोला कि मुझे जोर से चोदो प्लीज़।

फिर में उसे जोर के धक्को के साथ चोदने लगा और वो जोर जोर से चीखने लगी और चिल्लाने लगी और कहने लगी चोदो और जोर से फाड़ दो आज मेरी चूत, आज मुझे प्लीज पूरा सुख दो चुदाई का। में भी उसके कहने पर उसे और जोश के साथ चोदने लगा। में उसे अपनी पूरी ताकत से चोद रहा था और वो इस चुदाई का पूरा मजा ले रही थी तेज धक्को के साथ। फिर करीब बीस मिनट तक मैंने उसे चोदा और फिर में झड़ गया। मैंने अपना लंड चूत से बाहर निकाला तो देखा कि उसकी चूत से बहुत सारा खून निकला था वो मेरे लंड पर भी लग गया था। फिर मानसी मुझे और में भी उसे देखकर हँसने लगे। फिर हम वॉशरूम मे गये और अपने आप हो साफ किया और फिर वो तीन बजे अपने घर पर चली गई, उसको चलने मे बहुत दर्द हो रहा था।

उस दिन वो क्लास मे नहीं आई और फिर मैंने उसे फोन किया तो उसने मुझे बताया कि ये उसकी पहली चुदाई थी इसलिये उसे बहुत दर्द था। इसी वजह से वो क्लास भी नहीं आई लेकिन अब वो बिलकुल ठीक है। फिर हमारा ये प्यार बहुत समय तक चला, मैंने इसी बीच उसे कई बार चोदा और उसने भी बहुत मजे लिये चुदाई के और फिर कुछ समय बाद वो देश से बाहर चली गई। तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी ।।

धन्यवाद …

Leave a Reply