दोस्त की बीवी के साथ सम्भोग

हैल्लो दोस्तों, मैंने कई कहानियाँ पढ़ी और अच्छी भी लगी और मुझे पहले तो यह सब पढ़कर लगा कि लोग झूटी कहानियाँ लिखकर भेज देते है, लेकिन जब से इसी तरह की घटना मेरे साथ हुई तब से मैंने भी मान लिया. यह मेरी पहली कहानी है जो में आप सबको सुनाने जा रहा हूँ और यह मेरा पहला अहसास भी है. मेरा नाम आर्य है, में 22 साल का एक नवयुवक हूँ. मुझे पहले कभी सेक्स (संभोग) में कुछ भी शौक नहीं था, लेकिन मेरे एक साथी ने जब से मुझे सेक्सी फिल्म दिखाई तब से मेरी यही कोशिश रहती थी कि काश कभी कोई ऐसी मिले जिसके साथ में सेक्स कर सकूँ.

मेरा मित्र जो मेरे पड़ोस में रहता था उसकी शादी पक्की हो गयी और लगभग 15 दिनों में उसकी शादी भी हो गयी और में उसकी शादी में नहीं जा पाया था, क्योंकि में मुंबई में मेरे अंकल के यहाँ आया हुआ था.

जब में वापस आया, तो वो शाम को मिला, तो मैंने कहा कि कैसी रही शादी और पहली रात पत्नी के साथ? फिर वो कुछ नहीं बोला और थोड़ी देर के बाद बोला कि चल तुझे तेरी भाभी से मिलवाता हूँ.

में और मेरा दोस्त उसके घर पर पहुँच गये और घर पर मेरे दोस्त की पत्नि अकेली ही थी. फिर जब में अंदर गया तो मैंने देखा उसकी बीवी बहुत सुंदर और सेक्सी लग रही थी और साड़ी में तो क़यामत लग रही थी और उसका फिगर तो ऐसा था की पूछो मत, वो मेरी ही हम उम्र की होगी, भाभी का नाम दिव्या था और मुझे तो वो औरत नहीं बल्कि एक सुन्दर लड़की ही लग रही थी.

फिर मैंने मेरे दोस्त से कहा कि यार हमारी भाभी तो बहुत मस्त लग रही है. फिर तभी मैंने भगवान से दुआ कि मुझे बीवी दो तो इसी तरह की फिगर वाली और सुंदर देना. फिर मैंने उससे बात की तो उसकी आवाज भी सेक्सी थी और अब वो भी मुझको बार-बार देख रही थी और एक दिन जब में अपनी बाइक को धो रहा था, तो भाभी घर से कुछ कपड़े और बर्तन लेकर मेरे घर धोने आ गयी.

जब भी भाभी कपडे धोने के लिए नीचे की तरफ झुकती थी, तो तभी मैंने उसके प्यारे से बूब्स को देख लिया, लेकिन में उससे कुछ कह नहीं पाया. अब मुझे यह सब देखकर बहुत मज़ा आ रहा था. फिर में अपनी बाइक को धोता रहा और वो मुझे कपडे धोते हुये देखती रही, लेकिन उसने ऐसा किया कि उसके बूब्स मुझको साफ साफ नजर आने लगे थे.

अब में उसके बूब्स को जब भी देखता था तो मेरे अंदर 400 वॉट का बिजली का करंट एक साथ दौड़ता था. फिर इस तरह से में कई बार उसके बूब्स को देख चुका था और वो कुछ नहीं कहती थी.

फिर एक दिन ऐसा आया कि जब मेरी किस्मत खुल गयी. फिर वो मेरे घर पर आई और मुझसे बोली कि मेरे घर पर टी.वी में कुछ भी नहीं दिख रहा है तो आप चलकर उसको ठीक कर दो ना. फिर जैसे ही में उसके टी.वी वाले रूम में गया, तो उसने दरवाजा बंद कर दिया. मुझे मालूम नहीं था कि उसने घर का दरवाजा बंद किया है, उस समय उसके घर पर कोई नहीं था. फिर में उनके टी.वी को चैक कर रहा था कि तभी उसने मुझे पीछे से आकर अपनी बाहों में भर लिया और में भी मन ही मन में खुश हो रहा था.

मैंने जानबूझ उससे पूछा कि ये क्या कर रही हो? तो वो बोली कि जो तुम्हें दिख रहा है. अब उसने मुझे किस करना शुरू कर दिया था. फिर में भी जोश में आ गया था और उसको किस करने लगा था और उसको अपनी बाहों में दबाने लगा था. फिर मैंने उसको खींचकर सोफे पर लेटा कर उसके ऊपर सो गया और उसको चूमना शुरू कर दिया और लगभग 10 मिनट तक उसको चूमता रहा.

फिर मैंने उसके ब्लाउज के बटन भी खोल दिये और उसके बाद धीरे धीरे मैंने उसकी ब्रा भी खोलने लग गया. फिर जैसे ही मैंने उसकी ब्रा खोली तो उसके बूब्स उछलकर बाहर आ गये, जिन्हें देखकर मैं उनको दबाने लगा. मुझे बहुत दिनों के बाद आज उनके पूरे के पूरे बूब्स देखने और दबाने को मिले थे. फिर में उसकी निप्पल को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा.

अब वो आआआहह, आआहहाहह कर रही थी और में उन्हें चूसे ही जा रहा था. फिर थोड़ी देर के बाद मैंने उसकी साड़ी हटाकर उसको चड्डी में ही कर दिया. अब उसकी चूत बहुत गर्म हो गयी थी जिससे उसकी पेंटी गीली हो चुकी थी. फिर में उसकी पेंटी को निकालकर उसकी चूत को फैलाकर चाटने लगा. अब वो सिसकारी मार रही थी आहहहहहह, आअहह, आहहह और उसने कहा कि ऐसा तो तेरा दोस्त भी नहीं करता है.

अब मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था, क्योंकि मैंने पहली बार चूत देखी थी. अब वो मेरे सामने पूरी नंगी थी और मैंने पहली बार ऐसी नंगी लड़की को देखकर मेरा जो लंड सो रहा था, वो टाईट हो चुका था. फिर उसने मुझे भी पूरा नंगा कर दिया, और वो मेरे लंड को देखते ही बोली कि इतना लंबा तो तेरे दोस्त का भी नहीं है, मुझे तेरे लंड से चुदवाने में आज बहुत मज़ा आएगा.

मैंने कहा कि यह 9 इंच का है, तब वो मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी. अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. फिर थोड़ी देर तक वो मेरे लंड को चूसती रही और उसके बाद मैंने उसको सोफे पर लेटा दिया और उसकी चूत को चाटने लगा. अब वो सिसकारियाँ मारने लग गई थी. फिर में उठा और उसके दोनों पैरों को खोल दिया तो उसने अपने दोनों हाथों से अपनी चूत को और फैला दिया. फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखकर उसकी चूत पर रगड़ने लगा.

फिर वो बोली कि अब डाल भी दो, कितना तड़पाओगे? तो मैंने कहा कि तड़पने में ही तो मज़ा है मेरी जान और फिर मैंने हल्का सा धक्का लगाकर उसकी फैली हुई चूत में अपने लंड को 3 इंच तक घुसा दिया. वो जोर से चिल्लाई सस्स्स्स्सस्स्स्स्सस्स गया, आ एयाया आआआ. फिर मैंने उसको किस करना शुरू कर दिया और थोड़ी देर के बाद मैंने फिर से धीरे-धीरे धक्के लगाना शुरू कर दिया. अब वो अहाह, आहहह, आहहह कर रही थी.

तभी मैंने एक ज़ोर से धक्का लगाकर मेरे लंड को 7 इंच तक उसकी चूत में घुसा दिया. फिर वो अचानक से चिल्ला भी नहीं सकी, क्योंकि उसका मुँह मेरे मुँह में था और में उसको ज़ोर-ज़ोर से किस करता गया और धक्के लगाते गया. तभी वो बोली कि आज फाड़ डाल मेरी चूत को, वो तुम्हारे जैसा ही लंड मांगती है.

उसके यह कहने से मुझमे एक नया जोश आ गया और मैंने फिर से धक्का लगाकर मेरे पूरे 9 इंच के लंड को उसकी चूत में घुसा दिया, लेकिन इस बार ज़ोर से चिल्ला उठी आहहह, एयाया, आहहहह, ऊऊऊऊओह, उउउउउउइई, ऊईईईईईईईई, उउइईई.

अब मैं समझ गया था कि मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस चुका है. फिर वो बोली कि में अब और दर्द सहन नहीं कर पा रही हूँ, तुम्हारा लंड बाहर निकाल दो. फिर मैंने कहा कि तुमने खुद मेरे लंड को न्योता दिया है तो अब यह भूख मिटने के बाद ही बाहर निकलेगा. फिर वो कुछ नहीं बोली. अब में उसे लगातार धक्के लगा रहा था और फिर में ऐसे ही 15-20 मिनट तक उसको उसी पोज़िशन में चोदता गया. फिर अब उसे भी मज़ा आने लग रहा था, अब वो भी अपने कूल्हे उछाल-उछालकर मुझसे चुदवा रही थी.

अब मैंने उसे और ज़ोर-जोर से चोदना शुरू कर दिया था. फिर थोड़ी देर के बाद वो झड़ गयी और शांत पड़ गयी. फिर मैंने उसको घोड़ी बना दिया. फिर मैंने उसको सोफे के सहारे खड़ी करके मैंने पीछे जाकर उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया तो इस बार मेरा लंड एक ही धक्के में पूरा का पूरा उसकी चूत में चला गया.

फिर में उसे जोर-जोर से धक्के मारने लगा और अब मैं भी पसीना-पसीना हो गया था. अब में उसके बूब्स को दबाये जा रहा था और फिर करीब 25 मिनट तक मैंने उसको ऐसे ही चोदा. फिर तब तक वो 2 बार और झड़ चुकी थी, लेकिन मेरा पानी तो अभी भी नहीं निकला था तो मैंने अपनी गति थोड़ी और बढ़ा दी और अपनी पूरी गति से चोदना शुरू कर दिया था.

फिर थोड़ी देर के बाद मैंने कहा कि मेरा पानी निकलने वाला है, कहाँ निकालूं? तब वो बोली कि मेरी चूत में ही अपना पानी छोड़ दो. फिर मैंने उसकी चूत में ही अपना पानी छोड़ दिया. फिर में उसको अपनी बाहों में लेकर सोफे पर लेट गया.

फिर थोड़ी देर के बाद वो उठी और अपनी चूत से मेरा लंड बाहर निकालकर उसको चूसने लगी और उसके बाद वो मुझे बाथरूम में ले गयी और मेरे लंड को साबुन से अच्छे से साफ किया. फिर उसने मुझसे पूछा कि मज़ा आया तो मैंने कहा कि बहुत मज़ा आया. फिर वो बोली कि तुम्हारा लंड तो अभी भी टाईट है, क्यों? तो मैंने कहा कि ये अभी भी भूखा सा लगता है. फिर उसने कहा कि तो फिर चलो शुरू हो जाओ, तो में उसके यह शब्द सुनकर तो ख़ुशी के मारे उछल पड़ा और हमने फिर से सेक्स शुरू किया.