कज़िन सिस्टर का आकर्षण और पूस्सी चुदाई

दोस्तो, यह मेरी पहली कहानी है! मुझे आप सभी पाठकों का प्यार और स्नेह चाहिए.

यह घटना 3 साल पहले की है, आज पहली बार आप सभी के साथ अपनी पहली घटना बता रहा हूँ.
मेरी हाइट 5.11′ है और डिक साइज़ 7 इंच लंबा और 2.5′ मोटा है.

मेरे एक रिश्तेदार के यहाँ नागपुर में शादी थी, हम सब पूरी फॅमिली शादी में गये थे. उसी शादी में मैंने पहली बार अपनी कज़िन सिस्टर को देखा, उन्हें देखते ही पहला वर्ड मेरे मुख से निकला- वाउ…
क्योंकि मैं तब तक नहीं जानता था कि वो मेरी कज़िन सिस्टर है.

आपको मेरी कज़िन सिस्टर के बारे में बता दूँ… वो शादीशुदा है उनकी हाइट 5’4″ है बूब्स 34’डी हैं, कमर 32′ और हिप्स 36′ हैं.
और साथ में दिखने में भी बहुत खूबसूरत है.

हम दोनों ने ही एक दूसरे को पहली बार देखा था. वो भी बहुत खुश थी मुझसे मिल कर… क्योंकि मेरा नेचर स्वीट है.
किसी न किसी काम से मैं मेरी कज़िन सिस्टर से बात करने के मौके ढूंढने लगा.

 

दिन भर काम करके जब सब इकट्ठे हुए तो सब लोग बातों में मशगूल थे. तभी मेरी कज़िन सिस्टर की और उनके पति के बीच किसी बात को लेकर कहा सुनी हो गई और वो होटल की छत पर चली गई.
मैं भी 5 मिनट बाद ऊपर उनके पीछे पीछे चला गया. वहाँ देखा तो वो एक कोने में खड़ी होकर रो रही थी.

मैं उनके पास पहुंचा तो मुझे देख कर वो एकदम से सकपका गई.
मैंने उनसे पूछा- आप ऐसे क्यों रो रही हो?
तो उन्होंने बात काट दी.

मैंने उनके हाथ के ऊपर हाथ रख कर फिर से पूछा.
मेरी कज़िन सिस्टर बताया- मेरी शादी को 5 साल हो चुके हैं और मेरे पति कभी बाप नहीं बन सकते हैं. उन्हें मेडिकल प्राब्लम है और वो अपनी बात को लेकर हमेशा मुझसे झगड़ा करते हैं. डॉक्टर से भी कन्सल्ट कर चुके है पर उन्होंने भी मना कर दिया है.

उनका रोना मुझसे देखा नहीं गया और मैंने उन्हें हग कर लिया.
हग कर के मैंने उनके माथे पर चुम्बन किया और उनकी दोनों आँखों पर किस की, फिर चुप कराया.

उन्होंने कहा- मैं माँ बनना चाहती हूँ, पर शायद मेरी किस्मत में ये नहीं है!
मैंने उनसे कहा- आप ऐसे उदास मत होईये… मैं आपके पास हमेशा हूँ.

उन्होंने मुझे फिर से हग कर लिया पर इस बार उन्होंने बहुत टाइट हग किया जिससे उनके बूब्स मुझे फील होने लगे.
मैं जैसे तैसे अपने आप को कंट्रोल कर रहा था.

पर हग करते करते मैंने फिर से उन्हें किस किया लेकिन इस बार उन्होंने मुझे आगे होकर लिप किस किया.
मैंने उन्हें मना किया- यह ग़लत है… आप मुझसे बड़ी हो और शादीशुदा भी!
पर वो कहने लगी- तुम मुझे अच्छे लगे और अपने हो… मैं माँ बनना चाहती हूँ.

फिर से हम दोनों लिप किस करने लग गये और मैं अपने रूम में लेकर गया. रूम में जाते ही उन्होंने मुझे बेड पर गिरा दिया और मेरे ऊपर आ गई.
15 मिनट तक हम दोनों एक दूसरे को स्मूच करते रहे, उनकी पूरी जीभ को अपने मुख में लेकर बहुत प्यार से चूस रहा था और वो लंबी लंबी साँसें भर रही थी

मैंने मेरी कज़िन सिस्टर साड़ी का पल्लू हटाया और ब्लाउज खोल दिया. रेड कलर की ब्रा में मेरी कज़िन सिस्टर इतनी ज़्यादा हॉट लग रही थी कि मेरा पेनिस हद से ज़्यादा टाइट हो गया, ऐसा लगने लगा कहीं ब्लास्ट ना हो जाए.

उनकी गर्दन पे किस करते करते मैंने उनकी ब्रा को निकाल दिया और उनके 34 डी साइज़ के बूब्स को बड़े मज़े से चूसने लगा. उनके रेड निप्पल, इतने सॉफ्ट सॉफ्ट बूब्स… मेरा खुद पर से कंट्रोल खोता चला जा रहा था.

10 मिनट बूब्स चूसने के बाद मैंने उनकी पूरी साड़ी निकाली, अब वो सिर्फ़ रेड कलर की पेंटी में थी.

अब मैंने नीचे से उनके पैरों पर किस करना चालू किया और उनके पैरों की उंगलियों को अपने मुंह में लेकर सक करने लगा. सक करते करते अब धीरे धीरे उनके दोनों पैरों पर किस करते करते ऊपर बढ़ रहा था.

जैसे जैसे ऊपर बढ़ रहा था, उनकी साँसें और तेज़ होती जा रहा थी. मैंने पेंटी के ऊपर से उनकी पूस्सी को किस किया और अपने मुंह से पकड़ कर उनकी पेंटी निकाल दी.
मेरी कजिन सिस्टर की पूस्सी पूरी क्लीन शेव थी… इतनी खूबसूरत लग रही थी कि मैंने सबसे पहले अपने दोनों गालों पर उनकी पूस्सी से टच किया जैसे कि पूस्सी के लिप्स मुझे गालों पर किस कर रहे हों.

यह देख कर वो हंसने लग गई.

मैंने अपनी पूरी जीभ बाहर निकाल कर उनकी पूस्सी को लिक किया और उनकी पूस्सी के दाने को अपने मुंह में लेकर सक करने लगा. मेरी कजिन बहुत बुरी तरह से मचलने लगी उम्म्ह… अहह… हय… याह… और मेरा सर पकड़ कर अपनी पूस्सी पर दबाने लगी.
मैं अपनी पूरी जीभ को पूस्सी में डाल कर चूसने लगा और अंदर ही अंदर अपनी जीभ गोल गोल घुमाने लगा.

15 मिनट पूस्सी लिकिंग से मेरी सिस्टर सॅटिस्फाई हो गई और उनका लिक्विड बाहर बहने लगा. उनकी पूस्सी के जूस को पूरा का पूरा लिक कर कर के साफ कर दिया मैंने!
बहुत ही मीठा टेस्ट था उनके रज का!
यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

अब वो उठी और उठ कर मेरे कपड़े निकालने लगी. मेरी चेस्ट 42″ इंच का है वो शर्ट निकलते निकलते किस करते जा रही थी और अब उन्होंने मेरी जींस को निकाल दिया और अंडरवीयर निकलते ही उनके चेहरे पे स्माइल आ गई.
उन्होंने हाथ में मेरा पेनिस लिया और कहा- तुम्हारा बड़ा है और बहुत मोटा भी… मेरी तो फट जाएगी.

मैंने कहा- डरो मत… प्यार से धीरे धीरे डालूँगा!

फिर वो बेड पर बैठ कर मेरा पेनिस सक करने लगी पर पूरा अंदर नहीं जा पा रहा था उनके मुंह में…
मैं उन्हें लेटा कर फिर से उन्हें सर से लेकर पैरों तक और आगे से लेकर पीछे तक सब जगह बहुत प्यार से किस करने लगा.

अब मेरी कजिन सिस्टर से रहा नहीं जा रहा था… ना ही मुझसे!
मैंने धीरे से अपना पेनिस उनकी पूस्सी पे रगड़ा और अंदर डालने लगा. 1.5 इंच में ही उन्हें दर्द होना चालू हो गया. उनकी पूस्सी बहुत टाइट थी. हमारे पास कोई तेल वगैरा तो था नहीं… पूस्सी पर पेनिस टिका कर फिर से ट्राइ किया. इस बार एक बार में ही 4 इंच डाल दिया, उनकी आँखों में आँसू आ गए. मैं वहीं स्टॉप करके उनके बूब्स सक करने लगा, 2 मिनट बाद धीरे धीरे फक करने लगा. और धीरे धीरे फक करते करते और अंदर डालने लगा. अब मेरा पूरा पेनिस अंदर चला गया पर इस बार डालने में मुझे भी दर्द होने लगा था.

1 मिनट रुक कर मैं उन्हें स्मूच करने लगा और उनके बूबस को दबा रहा था. फिर धीरे धीरे फक्किंग स्टार्ट की और उन्हें फक करने लगा. 5 मिनट बाद वो भी अब मेरा साथ देने लगी और मैंने स्पीड बढ़ा दी.

अब मैं उन्हें बहुत ज़ोर ज़ोर से फक कर रहा था और उनकी आहें तेज़ होती जा रही थी.

अब वो डिस्चार्ज हो गई और उनके पूस्सी के पानी में फक्किंग से फूच फूच की आवाजें आने लगी.

15 मिनट बाद मेरा भी स्पर्म निकालने लगा और मैंने अपना पूरा स्पर्म उनकी पूस्सी में डाल दिया. एक मिनट ऐसे ही मैं उनके बूब्स के ऊपर सर रख कर लेता रहा और निप्पल्स को बहुत प्यार से सक करने लगा.

फिर बेड पे हम दोनों लेट गये और उन्हें मैंने अपनी बांहों में ले लिया. उनका सर मेरे सीने पर था और मैं हाथ से उनके बालों को सहलाने लगा.

दोस्तो मेरी यह पहली कहानी है मेरी कजिन सिस्टर की चुदाई की… अगर मुझसे लिखने में कोई ग़लती हुई हो तो प्लीज़ माफ़ कर दीजिएगा. आपको मेरी स्टोरी कैसी लगी, प्लीज़ आपका फीडबॅक दीजिएगा.