अंध विश्वास ने दुनिया उजाड़ी

रात का अंधेरा गहराता जा रहा था. समय करीब 11:30 रहा होगा जब वो अपने घर से निकली थी. चारों तरफ सन्नाटा फैला हुआ था. बस हवायों और पेड़ के पत्तों की आवाज़ ही इस सन्नाटे को भंग कर रहे थे. कभी कभी कुत्तों के भौंकने की आवाज़ भी सुनाई पड़ जाती थी लेकिन वो चनिक मात्रा थी.

वो पैदल ही सबसे छूपते छिपाते शमशान की और जा रही थी. और कोई होता तो उसे इतनी रात को शमशान जाने के नाम से हार्ट अटॅक हो जाता, लेकिन जाने वो किस मिट्टी की बनी थी उसे बहुत प्रेतों का ज़रा भी भय नहीं था. वो तो बस अपने किसी उद्देसया के लिए जैसे सर पर कफ़न बाँध कर चली जा रही थी. हाथों में अपने पति की तस्वीर और कुछ पूजा का सामान लिए वो धीरे धीरे बिना डरे शमशान वाले रास्ते पर तरफ रही थी. डर था तो केवल इतना की कहीं उसे कोई देख ना ले और उसकी पूजा भंग ना हो जाए जिसके लिए उसे पूरे 10 दिन अमावस्या तक इंतजार करना पड़ा.

10 दिन पहले

रूपा एक बेहद खूबसूरत कोई 25 साल की नवयुवना थी जिसकी चाह हर किसी के मान में होती है. उसका पति रमेश खेतों में मज़दूरी करके अपना और अपने परिवार का पेट पालता था. दोनों का एक सुन्दर सा बेटा भी था जिसे दोनों ही बहुत प्यार करते थे. एक कारण ये भी था की इस बच्चे का जन्म ऑपरेशन से शहर में हुआ था जिसका खर्चा खते के मालिक ने दिया था और वो कर्ज धीरे धीरे रमेश चुका रहा था. इस ऑपरेशन के बाद अब रूपा कोई बच्चा नहीं जान सकती थी तो बस वही एक उनकी आँख का तारा था जिसे दोनों बेहद प्यार करते थे.

रमेश रोज़ सुबह नाश्ता करके काम पर चला जाता और शाम को घर आ जाता. दोपहर का खाना वो घर से लेकर जाता था क्योंकि खेत घर से दूर थे. खेत का मालिक भी बहुत अच्छा इंसान था जो समय समय पर रमेश की मदद कर देता था. उनकी जिंदगी बढ़िया चल रही थी लेकिन कब किस की नज़र लग जाए कोई नहीं कह सकता.

ऐसे ही एक दिन अचानक जब रमेश खेत में काम कर रहा था तो अचानक वो बेहोश हो कर गिर पड़ा. उसके साथ काम करने वाले दूसरे मजदूरों ने उसे उठाया और पास ही एक पेड़ के नीचे लिटा दिया. उसको ठंडे पानी के छींटे मर के उठाया गया और शायद ये उन लोगों के लिए नुक़सानदायक ही हुआ. रमेश होश में आते ही पागलों जैसी हरकत करने लगा. बिना मतलब चिल्लाना, हाथ पैर चलना, गलियाँ बकना उसने शुरू कर दिया.

पहले तो सब लोग कुछ समझ नहीं पाए लेकिन बाद में उन्हें लगा की कहीं इस पर कोई बहुत प्रêत का साया आ गया है जो ये इस तरह की हरकत कर रहा है. किसी तरह उन लोगों ने रमेश के हाथ पैर बाँध दिए और उसे उसके घर पहुँचा दिया. जल्दी ही ये खबर पूरे गाँव में आग की तरह फैल गयी. सब भौंचक्के से रमेश को देख रहे थे. रमेश उठता, चीकता चिल्लाता और फिर बेहोश हो जाता. रूपा की तो जैसे जान ही निकल गयी थी. उसे समझ नहीं आ रहा था की वो क्या करे. किसी ने भी ये ध्यान नहीं दिया की रमेश दो दिन से बुखार में था और आज बुखार इतना तेज हो गया था की उसके दिमाग में चढ़ गया था. सब इसे बहुत प्रêत का मामला समझ रहे थे और यही समझ रहे थे की बहुत प्रêत की वजह से ही रमेश का बदप ताप रहा है.

रूपा बस रोए जा रही थी. किसी तरह गाँव की औरतों ने उसे संभाला. गाँव के एक आदमी ने जाकर पास के शमशान से बाबा गोरखनाथ को बुलाने भेज दिया जो बहुत प्रêत को अपने वश में करके की विधया जानते थे. थोड़ी ही देर में वो आदमी उन बाबा को लेकर आ गया. लंबे घुँगरले बाल, बड़ी बड़ी लाल आँखें, गले में नर मुंडों की माला, एक हाथ में खोपड़ी तो दूसरे में एक मोर पंख की झाड़ू, कंधे पर एक बड़ा सा झोला जिसमें जाने क्या क्या रखा था. एक बार तो सब उन्हें देख कर डर गये लेकिन फिर हिम्मत करके उन्होंने अपनी दुविधा सामने रखी.

बाबा ने रमेश की नदी को देखा और जल्दी ही वो असली बात भाँप गये. लेकिन उनके मान में पाप आ गया और उन्हें अपनी काली विधया की पूजा के लिए एक साधन मिल गया. उन्होंने रूपा से एकांत में बात करनी चाही जिसके लिए गाँव वाले तैयार हो गये. बाबा रूपा को सबसे थोड़ा सा दूर ले गये और कहा “बेटी, तुम्हारे पति पर बहुत बारे बहुत का साया है जो हर शान तुम्हारे पति के शरीर को कमजोर किए जा रहा है. जल्दी ही उपाय नहीं किया गया तो उसकी जान को खतरा हो सकता है.”
“बाबा आप कृपया करके मेरे पति को बच्चा लीजिए. जो भी पूजा करनी है आप करिए. जितना भी पैसा लगेगा मैं अपनी तरफ से भरने की पूरी कोशिश करूँगी.”

“बेटा पैसा तो कुछ खास नहीं लगेगा लेकिन एक काम है जो तुम शायद ना कर सको”

“बाबा आप बताइए ऐसा क्या काम है. मैं अपने पति की जान बचाने के लिए सब कुछ कर सकती हूँ”

“बेटा तुम्हें अमावस्या वाले दिन रात को 12 बजे शमशान पहुचना होगा क्योंकि उसी दिन रक्षी ताकतें बाहर निकलती हैं तो उनको आसानी से वश में किया जा सकता है. हाँ और तुम्हें सबसे छूपते छिपाते आना होगा वरना ये पूजा भंग हो जाएगी”

9 comments

  1. पूरी कहानी कहा है

  2. WhatsApp girl or bhabhi no 9135661511

  3. I am a callboy Agr koi aesi unsatisfied bhabhi ya aunty jinke husband unko satisfied nahi krte h to vo lady mujhe mail ya contact kare m aapko full satisfied karunga m sex krte time aapke under ak janwar jga dunga bs ak bar meri service try karo uske bad aap khud mujhe invite karogi.
    [email protected]
    Contact. 07060966176

  4. call me 8059415436 lund 7″h aunty grills sax karna Chate h call me. Jhajjar

  5. Call me for sex any age group lady in delhi 8377098988

  6. केवल असंतुष्ट महिलाओं और लड़कियों के लिये। जो लड़कियों, महिलाएँ, भाभियाँ, चाचियाँ, अगर आप अपने पति या Boyfriend, से संतुष्ट नहीं हैं तो मैं आ गया हूँ अब आपको संतुष्ट करने। एक बार सेवा का मौका दे। और फर्क देखो, आगे आपकी इच्छा,,,,,,,,,,,, धन्यवाद!!!!!!!!… Whatsup and call me 9049799452 Maharashtra only

  7. Housewifes agar aap unsatisfied ho aur khudko satisfy krna chahti ho.. muze.only real girls &housewife plz….100% secret relationship.. .. (Aunty, girls, an housewifes) No Age limit…my whataap no.(9169655193)

  8. कोई लडकी या हाउसवाईफ मुझ से sexकरवाना चाती हो कोल कर 9549248921पर अजेमर या जयपुर की हो

Leave a Reply